Monday, October 10, 2016

जब से तुझे देखा ...

  • वो सावन-भादों की फुहार हैं...उमराव जान की ताजा़ ग़ज़ल...ख़ूबसूरत की शोख़ी और हर उस फिल्म की जान जिसमें वे नज़र आईं। रेखा ने जैसे उन्हें अपने क़रीब से तो गुज़रने दिया...खु़द को छूने नहीं दिया।  10 अक्टूबर  अपने जन्मदिन पर  उम्र को शायद यही कहकर चुप बिठा देंगी...एज इज़ जस्ट ए नंबर ...

किस मिट्‌टी की बनी हैं रेखा...सब जानना चाहते हैं। पर वे अपनी दुनिया में मशगू़ल, किसी के लिए उपलब्ध नहीं हैं। मानो दुनिया को खूब देख लेने के बाद वे अब उसके बीच रहकर भी उससे दूरी रखना चाहती हैं। चमक-दमक के साथ वे अवॉर्ड फंक्शंस में नजर जरूर आती हैं।




साठ की रेखा (अब बासठ)




दुनिया एक झटके में बदली थी। आइक्रीम, होमवर्क, घर...सब छूट गया।
मद्रास शहर से मुंबई के जंगल में पांव रखते हुए जो आवाज़ हुई वो उस सपने के टूटने की थी जिसमें तेरह बरस की बच्ची एअरहोस्टेस बन आसमान में उड़ना चाहती थी।
टूटे ख़्वाब की किरचों को आंखाें में लिए कैमरा, लाइट्स और अनजान भाषा में बोलते लोगों का सामना कर रही थी भानुरेखा। उसके चेहरे को अनाकर्षक कहा गया, रंग को गाढ़ा और अंदाज को अनगढ़। अपने इसी वजूद के साथ वो उस राह पर चल पड़ी जहां से वापसी नामुमकिन थी।
 यहीं  रेखा को मिले सावन-भादों।
कान में झुमका-चाल में ठुमका.. लिए रेखा ने कमर पे लटकती चोटी से इस मौसम को यूं बांधा कि आज तक आज़ाद नहीं किया। रेखा ने कामयाबी का जा़यक़ा चख लिया था। बॉलीवुड अब उन्हें सर पर बिठाने को तैयार था। जिन आंखों की मस्ती के मस्ताने हज़ारों हुए वे अब चमकने लगी थीं।
फिल्मों में काम मिलना, कामयाब होना या किसी के साथ नाम जुड़़ना-टूटना ..इस सबके बीच एक फिल्म आई दो अनजाने। रेखा खु़द मानती हैं कि यहीं से उनकी ज़िंदगी में बदलाव की शुरुआत हुई। कोई पारस छूकर गुज़रा और वे सोना हो गईं। अपने आप को किसी और की नज़र से देखना क्या होता है, काम करना और बेहतर से बेहतरीन काम करना क्या होता है..रेखा ने तभी जाना। एक इंटरव्यू में रेखा ने इस बात को स्वीकार भी किया है कि ये सारा बदलाव एक शख़्स के कारण मुमकिन हुआ। रेखा सुनहरी हो चुकी थी और फिल्म में उनका होना कामयाबी की गारंटी।
रेखा उन कलाकारों में से हैं जो जिनकी जिंदगी एक खुली किताब होते हुए भी अनगिनत रहस्य खुद में समेटे है। यानी पढ़ने वाला अगर सरसरी तौर पर पढ़े तो वही समझ आएगा जो लिखा है...पर ज़रा सा ध्यान देने से  अर्थ परत-दर-परत खुलते दिखेंगे।
रेखा का जीवन कंट्रोवर्सी से अछूता नहीं रहा। संबंध जुड़ने और टूटने के बीच एक शादी और उसका खत्म होना। ये सारी चीजें उनके गिर्द फैले रहस्य को और गहराती गईं।
रेखा अकेली रहती हैं। वे किसी से मिलती नहीं सिवाय अपनी सेक्रेटरी के। ्र
जब लोग इस बात को समझकर चुप बैठना चाहते हैं तो अचानक किसी अवॉर्ड फंक्शन में नजर आती हैं -गहनों से सजी, कांजीवरम साड़ी में लिपटी, बालों में फूल सजाए...सबसे बतियाती। चुलबुली होते हुए भी ग्रेसफुल। देखने वाला हक्का-बक्का रह जाता है जब वे सामने आए किसी ऐसे शख़्स को हैलो या नमस्त कर डालती हैं जिसके  नज़र मिलाने की उम्मीद भी वे न कर रहे हों। फिर तो चाहे मिस वर्ल्ड बैठी हों या मिस यूनिवर्स...कैमरा बार-बार उनकी तरफ जाता है। खास बात ये भी है कि वे इस सबसे अनजान नहीं रहतीं।
तो, रेखा उतनी ही विरल हैं जितनी सरल दिखती हैं। वे फेसबुक पर नहीं हैं। टिवटर पर नहीं हैं। फोन कॉल अटेंड नहीं करतीं। इंटरव्यू नहीं देतीं। किसी चैट शो का हिस्सा नहीं बनतीं। अपनी फिल्म की प्रमोशन पर नहीं निकलतीं..(कभी कभी निकलती भी हैं).तो भी हमेशा खबरों में रहती हैं। 
वे जितनी दूरी बनाती हैं दुनिया से लोग उनके बारे में उतना ही ज्यादा जानना चाहते हैं।

रेखा के बारे में यह लेख 2014 दैनिक भास्कर नवरंग में छपा था।

Thursday, September 17, 2015

प्रोफेसर ओबेरॉय...आप मुझे माफ़ कर सकते हैं ?



मैं उनसे बहुत नहीं मिलती थी। लेकिन याद बहुत रहती थी। कई दफ़ा वे किसी प्रोग्राम में मिल जाते तो दुआ सलाम होती और जल्दी ही मिलकर लंबी बात करने का वादा भी। उनकी आंखें बीमार थी। बहुत कम दिखता था। पढ़ना तो मुमकिन था नहीं।
एक दिन फ़ोन पर वे बोले-क्या तुम मेरा एक काम कर सकती हो? मैेंने पूछा- क्या ?
वे बोले-बोर्हेस का एक एस्से है ब्लाइंडनेस, क्या तुम मुझे वो पढ़कर सुनाओगी ?
मैंने कहा-हां, ज़रूर।
मेरे पास वो एस्से था नहीं। एक परमप्रिय ने मुहैया करा भी दिया। मैं चाहती थी कि किसी दिन बैठकर उन्हें वो पूरा पढ़कर सुना दूं। लेकिन यूं ही वक्त टलता गया।
कई साल गुज़रे इस बात को। उन्होंने हालांकि उलाहना नहीं दिया लेकिन मुझे याद था कि मैं अपना वादा नहीं निभा पाई।
फिर पिछले साल मैं उसने मिलने गई। ग़रज़ अपनी ही थी। एक इंटरव्यू के सिलसिले में।
मैंने कन्फेस किया कि मैं आपको ब्लाइंडनेस पढ़कर अब तक नहीं सुना पाई। लेकिन जल्दी ही फिर आऊंगी। देर तक बैठूंगी और सुनाऊंगी भी।
उन्होंने कहा-कोई बात नहीं। जब वक़्त मिले, तब आ जाना।
मैं फिर नहीं जा सकी। और आज वे इस दुनिया से चले गए। कल रात इस वक़्त वे ज़िंदा रहे होंगे। आज राख हो चुके हैं। यहां, जहां मैं बैठी हूं, कुछ ही दूर वो जगह है जहां प्रोफेसर एन के ओबेरॉय का अंतिम संस्कार हुआ।
थोड़ी देर बाद मुझे घर जाना है, उसी राह से होकर। मुझे उनके जाने का जितना दुख है उससे ज़्यादा इस बात का कि मैं एक बेहतरीन पढ़ाकू और इल्म से मुहब्बत करने वाले इंसान की इतनी छोटी सी ख़्वाहिश पूरी नहीं कर पाई।
एक पढ़ाकू इंसान के लिए नज़र का चले जाना कितना तकलीफ़देह रहा होगा,  यह सोचना भी उतनी ही तकलीफ़ दे रहा है।
 प्रोफेसर ओबेरॉय क्या आप मुझे मेरी कोताही के लिए माफ़ कर सकते हैं ..? 




-प्रोफेसर एन के ओबेरॉय पंजाब यूनविर्सटी में अंग्रेजी पढ़ाते थे। कुछ सालों से उनकी आंखे बीमार थीं और पिछले दिनों वे कैंसर के कारण अस्पताल में रहे।  बुधवार सुबह वे सोकर उठे नहीं। नींद में ही उनकी मौत हो गई। वे अंग्रेजी के अलावा उर्दू, हिंदी और पंजाबी भाषा के जानकार थे।

Thursday, December 25, 2014

हिंदुस्तानी थिएटर की मलिका

बेगम क़ुदसिया ज़ैदी की सौवीं सालगिरह (23 दिसंबर) पर उन्हें याद करते हुए हमें समझना चाहिए इस बात को कि क्यों उन्होंने अंग्रेज़ी या उर्दू थिएटर की बात न करते हुए हिंदुस्तानी थिएटर की शुरुआत की। क्यों उन्होंने भारतीय और विदेशी क्लासिक्स को हिंदुस्तानी ज़ुबान में लोगों के सामने रखकर थिएटर की एक पुख़्ता शुरुआत करने के लिए क़दम बढ़ाया था...





हुक़्क़े की नली छूते हुए चांदी की चिलम हाथ में लेकर वे कहा करतीं- मैं दिल्ली में ब्रेख़्त, शॉ, कालिदास, शूद्रक, आगा हश्र कश्मीरी का बेहतरीन थिएटर लेकर आऊंगी। अभी यहां जो हो रहा है वो बहुत चलताऊ और हल्का है। मैं दिल्ली वालों को सिखाऊंगी कि अच्छा थिएटर होता क्या है... बेगम क़ुदसिया ज़ैदी ने ये कहा और करके भी दिखाया। एक आला ख़ानदान की बेगमों वाली नजाक़त-नफ़ासत और ये यलग़ाराना तेवर...बेशक हंगामा बरपा होता होगा। लेकिन बेगम तो बेगम थीं जो ठान लिया था उस पर अड़ी रहीं। न सेहत की फि़क्र न ज़माने की परवाह। 1954 में उनसे आ मिले हबीब तनवीर और इस तरह शुरू हुई आज़ाद हिंदुस्तान की पहली अर्बन प्रोफेशनल हिंदुस्तानी थिएटर कंपनी। बेगम की दो आंखों में एक ही ख़्वाब पलता था। हिंदुस्तानी थिएटर दुनिया-जहान तक पहुंचे। लिखना, अनुवाद करना और देशी-विदेशी क्लासिक्स को इस तरह पेश करना कि वो आने वाले ज़माने के लिए मिसाल बने।
बेगम क़ुदसिया के बारे में पहली बार मैंने बलवंत गार्गी की किताब पर्पल मूनलाइट में पढ़ा था। तक़रीबन तीन पन्नों में जो जानकारी उन्होंने दी थी वो काफ़ी थी इस बात को समझने के लिए कि इन्होंने हिंदुस्तानी थिएटर को कायम किया था। सच कहूं तो इसके बाद बहुत कम सुना और पढ़ा उनके बारे में। मेरी पीढ़ी के ज़्यादातर लोग शायद उनके बारे में इतना ही या इससे ज़रा सा कम ही जानते होंगे। फिर अचानक पूर्णा स्वामी के ब्लॉग (बेगम ज़ैदी इनकी परनानी होती हैं) पर बेगम की फैमिली से जुड़ी दिलचस्प जानकारी देखी। पता चला कि सौ साल पहले लाहौर के एक पुलिस अफसर ख़ान बहादुर अब्दुल्ला साहेब के आंगन में एक कली खिली। नाम रखा गया उम्मतुल क़ुद्दूस अब्दुल्ला। जो बाद में अम्तुल और उसके भी बाद में बेगम क़ुदसिया ज़ैदी के नाम से जानी गई। रामपुर के कर्नल बशीर हुसैन ज़ैदी से ब्याही बेगम दिल्ली की उन शख़्सियतों में शुमार की जाती थीं जो अदब और आर्ट की जानकार होने के साथ-साथ सलीकेमंद और रसूखदार भी थीं। यही बेगम क़ुदसिया शमा ज़ैदी की मां और एमएस सथ्यू की सास भी हैं। सथ्यू उन्हें याद करते हुए कहते हैं-उनमें ग़ज़ब की एनर्जी थी। वे हर वक़्त काम करती थीं। बहुत क्रिएटिव और डायनमिक। उन्होंने हिंदी-उर्दू थिएटर का सपना देखा और उसे पूरा करने के लिए काम भी किया। वे बहुत जल्दी दुनिया से चली गईं, ज़िंदा रहतीं तो क्या बात थी।
बेगम बहुत कुछ करना चाहती थीं लेकिन वक़्त ने उन्हें मोहलत न दी। वे 1960 में ही चल बसीं। उनकी सौवीं सालगिरह के मौक़े पर दिल्ली में 23 दिसंबर से नाटक और सेमिनार का एक फेस्टीवल शुरू हो रहा है। लोग उन्हें याद करेंगे, उनकी बात करेंगे...और महसूस करेंगे बेगम की वही आवाज़-मैं दिल्लीवालों को सिखाऊंगी अच्छा थिएटर किसे कहते हैं .. इन्हीं बेगम के बारे में इस्मत चुग़ताई ने लिखा था -उसका चेहरा ही उसका ज़ेवर था। यानी इतनी हसीन कि सजने के लिए किसी ज़ेवर तक की ज़रूरत न पड़े। 

पंडित नेहरू को भी चुप करा दिया था उन्होंने  


जब मिट्‌टी की गाड़ी का शो फाइन आट्रर्स थिएटर में शुरू हुआ तो पंडित नेहरू परफॉर्मेंस देखने आए। वे बेगम (कु़दसिया) के साथ तीसरी कतार में बैठे थे। हममें से कुछ उनके पीछे चौथी क़तार में बैठ गए। जब नाटक तीन घंटे से ज्यादा खिंच गया तो नेहरू कुछ बेचैन से दे अपनी रेडियम घड़ी देखते पाए गए। बेगम ज़ैदी ने उन्हें टोका-वाह पंडितजी आप पार्लियामेंट में लंबी तकरीरों से बोर नहीं होते ? घड़ी की तरफ़ न देखें, नाटक देखें।
नेहरू ने चुपचाप बात मान ली।
शो के बाद, नेहरू स्टेज पर गए और कलाकारों के साथ तस्वीर खिंचवाने लगे। तेज़ रोशनियों में आंखें मिचमिचाते हुए वे चिल्लाए-क़ुदसिया स्टेज पर आओ ...उन्होंने हाथ हिलाया और एक मुस्कान फेंककर बोलीं-ना पंडित जी, मैं नहीं आऊंगी। आप अपनी तस्वीरें खिंचवाएं, मैं नहीं। वे स्टेज पर नहीं गईं।
वे कलाकारों के साथ सफर करतीं, मिट्‌टी की गाड़ी नाटक अऔर शकुंतला की परफॉर्मेंस देतीं रहीं, गहरा आर्थिक दबाव उनकी सारी बचत को खा चट कर चुका था। वे धूल और गर्मी में, ठसाठस भरे थर्ड क्लास कंपार्टमेंट में सफर कर लेती थीं। उनका नाज़ुक मिजाज़ ये सख़्ती झेल नहीं पा रहा था। जब वे एक छोटे से शहर में रात के वक्त टुअर पर थीं तो उन्हें हार्ट अटैक हुआ और इससे पहले कि उनके पति वहां पहुंच पाते, वे वहीं ढेर हो गईं।

एनएसडी दिल्ली में बेगम क़ुदसिया थिएटर फेस्टीवल
23 दिसंबर 2014
चाचा छक्कन के कारनामे
24 दिसंबर 2014
आज़र का ख़्वाब
25 दिसंबर 2014
मुद्राराक्षस 


यह लेख 20 दिसंबर2014 को दैनिक भास्कर रसरंग में छपा। 

Saturday, September 13, 2014

आज तू जो पास नहीं ...

अजब धुन है। गाने और मन दोनों की। महीनों बीत जाएं, कुछ न सुने। सुनने पे आए तो रुकते न बने। ये ग़ज़ल पिछले बरस एेसे ही सर चढ़ बैठी थी। जैसे-तैसे पल्ला छुड़ाया। आज फिर टाकरा हो गया। टाकरा इसलिए क्योंकि ये टक्कर से कुछ आगे की चीज़ है। सो,  फिर से दर्जनों बार सुनी जाएगी। अब तक शायद दस बार तो सुनी जा चुकी है।
सुनते हुए अक्सर इसे शेयर करने से मैं खु़द को रोक नहीं पाती। इसका एक-एक बोल मुझे इतना क़ीमती और सच्चा लगता है कि रहा नहीं जाता इसके बारे में बात किए बगै़र। ज़ाहिर है कई दोस्तों के पास ये ग़ज़ल पहुंच चुकी है।
मैंने पहली बार इसे कब सुना था...शायद तीन साल पहले। या उसके बाद...कुछ ठीक से याद नहीं। पर इसका एक छोटा टुकड़ा कहीं सुना और फिर ढूंढकर पूरी ग़ज़ल सुनी। पता चला 1967  की पाकिस्तानी फिल्म वक़्त की पुकार से है। नासिर बज़्मी की तर्ज़ पर बोल हैं रईस अमरोहवी के। ये फिल्म फ्लॉप बताई जाती है।
खै़र, हमें फिल्म से ज़्यादा सरोकार नहीं। हां इस ग़ज़ल को सुनते हुए तय करना कठिन हो जाता है कि अल्फ़ाज़ और आवाज़ में से उन्नीस कौन है। बराबर बीस वाले इस जादू में जितना डूबो उतना ही उतरते हैं।
मेहदी हसन साहब की आवाज़ में देखें ... जी रहा हूं तेरे बगै़र भी मैं...यहां कैसी नामोशी है लहजे में, जैसे साथ जीने की क़सम को खा लेने के बाद उसे तोड़ दिया गया हो, जैसे गहरी शर्मिन्दगी दामन पकड़े खड़ी हो....आगे देखें...पी रहा हूं अगरचे प्यास नहीं ...कमाल बात है प्यास नहीं है पर आप पी रहे हैं, ये मजबूरी हर कोई कहां समझ पाता है। ये पीना जिंदगी को जीने जैसा भी तो है।

शामे फु़रक़त है और तन्हाई....यहां सुनिए ये सचमुच की तन्हाई जैसी है। कोई आवाज़ है जो इस तन्हाई को दुकेला कर सके, कंपा देने वाली बात ....और फिर दिलासे के बोल-आ के अब कोई आसपास नहीं। जैसे एक शरारत की बात बहुत उदास सुर में कही जाए और रूह को चैन आ जाए।
कुछ 11 मिनट के इस जादू में मैं बार-बार डूबी हूं।
https://www.youtube.com/watch?v=p7NLB843N0Q

शहनाज़ बेगम की अावाज़ में इसी ग़ज़ल को सुनिए...लगेगा घुंघुरुओं की एक पोटली शहद की कटोरी में डुबोकर देर तक रखी गई है। घुंघरू खुलकर बिखर रहे हैं.। इससे पहले मैंने शहनाज़ बेगम को कभी नहीं सुना। उन्होंने यूं गाया जैसे सामने खड़ी ग़ज़ल को हरा देना चाहती हैं। इतनी मिठास के साथ अल्फा़ज़ को जीने और जीत लेने की जि़द इस तरह कम जगह पाई जाती है। ध्यान दें....शामे फु़रक़त है और तन्हाई....में ये आवाज़ तन्हाई तक जाती है  और जैसे तसल्ली भरा हाथ कंधे पर रखकर कहती है-आ के अब कोई आसपास नहीं ...कमाल है ना।
यहां ये जादू साढ़े तीन मिनट का है ...
 https://www.youtube.com/watch?v=EEDGCz2QyWA

और जब जादू बनाए रखने की ये वजहें सामने हों तो कम से कम आज के लिए बाक़ी चीजों को उठाकर कल पर रखा जा सकता है।



Saturday, June 28, 2014

सपने में भी भेड़ प्‍यासी हैं


बचपन हमारे मन के सबसे अंदर वाले कमरे में रखे संदूक जैसा होता है। बड़े होना उस पर एक ताला लगा देने जैसा है। कई बार हम ताला खोलकर उसमें झांक लेते हैं तो कई बार चाभी को कहीं रखकर भूल जाते हैं। बड़े होते हैं और बुढ़ाते हुए मर भी जाते हैं। संदूक भी यूं ही बंद का बंद हमारे साथ चला जाता है। मुझे ये संदूक बहुत प्रिय है। मैंने इस पर कभी ताला नहीं लगाया। मैं इसमें खूब झांकती हूं। आज दोपहर वाली झपकी भी इस संदूक को छूकर गुज़री और सपने में मैं पहुंची मेरठ में अपने उस घर में जो अब हमारा नहीं है।
मैं दरअसल घर में नहीं पहुंची बल्कि घर के बाहर हूं। भेड़ ही भेड़ और बकरियां मेरा रास्‍ता रोक रही हैं। मैं हॉर्न बजाकर उन्‍हें हटाने की कोशिश करती हूं। वे हटती नहीं। आखिर मैं घर के पीछे वाले मैदान में पहुंचती हूं। मैदान एक नदी बन जाता है। जिसमें पानी की जगह भेड़ और बकरियां भरी हैं। वे मुझे रास्‍ता नहीं देतीं। मेरी आंख खुल जाती है। शदीद प्‍यास मुझे अपने होठों से लेकर गले तक महसूस होती है। काफी देर मैं यूं ही पड़ी रहती हूं। मुझे समझ आता है कि वे सारी भेड़ बकरियां प्‍यासी थीं। काफी देर तक मैं पानी नहीं पीती। ये मेरी कोशिश होती है उनकी प्‍यास में शरीक होने की।
ये सारी भेड़ बकरियां जो आज सपने में आईं, दरअसल मेरे बचपन का सच थीं। हमारे घर से कुछ दूर आर्मी का बूचड़खाना था और वहां काटे जाने के लिए अक्‍सर ट्रकों में भरकर भेड़ बकरियां लाई जाती थीं। ये ट्रक हमारे घर के पीछे वाले उस बड़े मैदान में अनलोड हुआ करते थे जो मेरठ कॉलेज की जमीन थी। ये वही मैदान है जहां किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत ने अपनी पहली ऐतिहासिक रैली की थी। लेकिन ये सब बाद की बाते हैं। मैं बता रही थी कि कैसे वहां ट्रक भर कर आया करते थे। अक्‍सर गर्मियों की रात को जब ये ट्रक अनलोड होते थे भेड़ो के चिल्‍लाने की आवाजें हमारे घर तक आतीं। कुछ भेड़ें बहुत बूढी तो कुछ गर्भवती तक होती थीं। कई बार बहुत छोटे मेमनों के साथ भी हम उन्‍हें देखा करते थे।
मुझे याद है कि जब जब ट्रक अनलोड होते हमारी मां की टेंशन बढ़ जाती। मैं मेरा भाई और मां हम सब मिलकर उन्‍हें पानी पिलाया करते थे। मां कहतीं...बेचारियां न जाने कब से भूखी प्‍यासी होंगी। जाने कब आखिरी बार पानी नसीब हुआ होगा। मरने से पहले कम से कम पानी तो पी लें। हमारे घर में उन दिनों हैंड पंप हुआ करता था। मैं और मेरा भाई नल चलाकर बारी बारी से बाल्‍टी भरते और मां जाकर उन्‍हें पिलाकर आतीं। ये सिलसिला बुरी तरह थक जाने तक चलता। मां दुआ मांगतीं...अल्‍लाह जल्‍दी से इस इलाके में पानी की लाइन बिछवा दे मैं कम से कम इन्‍हें पेटभर पानी तो पिला सकूं।
फिर...बचपन चला गया। हम उस घर से बहुत दूर आ गए। मैदान अब भी वहीं है। बूचड़ख़ाना भी!  भेड़ बकरियां शायद अब भी वहां आती हों। उस इलाके में अब पाइप लाइन भी आ गई हैं। लेकिन क्‍या उनकी प्‍यास को अब भी वहां कोई महसूस कर रहा होगा....। पता नहीं। मुझे लगता है आज ज़रूर वहां भेड़ प्‍यासी होंगी..... प्‍यास तो शाश्‍वत है ! उन्‍हें पानी कौन देता होगा पता नहीं..पर .मां अब सड़क पर घूमने वाली गायों को पानी पिलाया करती हैं।

Saturday, July 20, 2013

मेरे प्रीतम को अभी परेदस है भाया हुआ

अक्‍सर महसूस होता है, मैं हज़ार बरस की हूं। इन बरसों में जीने मरने वाले हज़ारों लोगों के साथ रह चुकी हूं।  उनकी कितनी बातें हैं जो लगता है सिर्फ़ मुझसे कही जाने वाली थीं,  लेकिन या तो मैं सही जगह मौजूद नहीं थी या वो सब लोग मुझे ढूंढ नहीं पाए। मेरे रहने और सहने की क्‍या हद होगी,  खुद समझ नहीं आता। कितने ऐसे लोग हैं जिनका दर्द मुझे अपने दिल में आज भी महसूस होता है, और फिर लगता कि आखिर क्‍यों ये सब मुझसे बिना मिले चले गए....। कभी लिस्‍ट बना सकी तो बना रखूंगी ताकि शिकायत दर्ज की जा सके। फिलहाल.... ज़ोहराबाई अंबालेवाली से शिकवा दिल पर छाया हुआ है। उनका गाया एक गीत ख़ूब सुना जा रहा है। कई कई बार, लगातार। दिल नहीं भरता पर। http://www.youtube.com/watch?v=kZI4oeZFYYY
जोहराबाई यूं तो अपने पड़ोस अंबाले की ही ठहरीं लेकिन आज उनका पता ठिकाना यहां कौन बता पाता है। ज्‍़यादा से ज्‍़यादा पता चलता है कि वे अपनी बेटी रोशन कुमारी के साथ मुंबई में रहा करती थीं। फिर वही बात, कि मेरे वहां पहुंचने से पहले ही जोहराबाई भी चल निकलीं। भला ये भी कोई बात हुई.....थोड़ा तो इंतज़ार किया होता। कम से कम एक सवाल का जवाब तो देती जातीं...

जो़हराबाई मुझे तुमसे पूछना था कि ये गीत गाते हुए तुमने किसके लिए कहा था...... 
 मेरे प्रीतम को अभी परदेस है भाया हुआ....

किस तरह भूलेगा दिल उनका ख़याल आया हुआ
जा नहीं सकता कभी शीशे में बाल आया हुआ


ओ घटा, काली घटा अब के बरस तू न बरस
मेरे प्रीतम को अभी,  परेदस है भाया है
किस तरह.....

आ चमन से दूर बुलबुल जा के रोएं.... रोएं, साथ साथ
तेरा दिल भी चोट है मेरी तरह खाया हुआ
किस तरह...


खुश रहें दुनिया में वो जिसने है तोड़ा है दिल मेरा
दे रहा है ये दुआ आंखों में अश्‍क आया हुआ

किस तरह भूलेगा दिल उनका खयाल आया हुआ
जा नहीं सकता कभी शीशे में बाल आया हुआ 

Thursday, July 19, 2012

बिछड़े सभी बारी-बारी ..


मेरे घर से तुमको कुछ सामान मिलेगा , दीवाने शायर का एक दीवान मिलेगा और एक चीज़ मिलेगी..टूटा ख़ाली जाम ..फिल्म नमक हराम में रज़ा मुराद के आखि़री पलों में गाते हैं राजेश खन्ना। सबकी आंख नम हो जाती हैं। इससे पहले आनंद में और उससे भी पहले सफ़र फि़ल्म में उन्होंने ऑडियंस को ज़ार ज़ार रुलाया। बाद में उन्होंने कहा-आई हेट टियर्स..लेकिन वे तब तक अनगिनत आंखों में आंसू रोप चुके थे। लोगों ने खुलकर गाया-मेरे सपनों की रानी:::::लेकिन वे नहीं भूले उस उदासी और बेबसी को जो राजेश खन्ना ने पर्दे पर दिखाकर अपने लिए दिलों में एक खास जगह बना ली थी। .ये उनकी सबसे ऊंची परवाज का दौर था। वे जो गाते, वो हर ज़बान पर होता। जो पहनते वो सबकी जिंदगी का हिस्सा बनता। उनकी एक झलक के लिए पब्लिक की दीवानगी इस तरह सामने आती कि अफ़साने बन जाते। लेकिन सबसे ऊंची शाख़ पर बैठे परिंदे को भी कभी नीचे आना पड़ता है। राजेश खन्ना भी बुलंदी से उतरे। ऊंचाई जिस तेजी से  मेले सजाती है ढलान उसी रफतार से अकेलापन सौंपती जाती है। बाद में रह जाती हैं अच्छे दिनों की कहानियां।  राजेश खन्ना की जि़दगी में भी दौलत, शोहरत, मुहब्बत और तोहमतों की कहानियां थीं लेकिन ..सुनने वाले धीरे-धीरे महफिल से उठते जा रहे थे। बारी-बारी बिछड़ते दोस्त और अजीज़ों को उन्होंने किस तरह रुकने को कहा होगा पता नहीं लेकिन जो सामने आया वो थी तन्‍हाई।  काका अपने घर में अकेले रह गए थे। साथ रह गया था जाम। ये जाम भरता तो भरता ही जाता। रोकने वाला कोई हाथ वहां था ही नहीं। यही वजह थी कि पिछले दिनों जब वे पहली बार अस्पताल लाए गए तो उससे कई दिन पहले खाना-पीना छोड़ चुके थे। यक़ीनन ऐसी हालत अकेलेपन का ही नतीजा थी।

आख़री पलों में डिंपल फिर एक बार उनके साथ थीं। जाम पीछे रखा जा चुका था। अपनी तन्हाई की गिरह को खोलते-बांधते उन्होंने जो बातें जाम सामने रखकर की थीं उनकी गूंज को डिंपल ने जरूर सुना होगा, लेकिन अब तक देर हो चुकी थी। यूं भी गूंज, कहे हुए शब्दों को ज्यों का त्यों अभिव्यक्त नहीं कर सकती। ख़ामोशी में राजेश खन्ना ने कहा-मैं सोचता था मेरा नाम गुनगुना रही है वो, लेकिन सचमुच क्या वे कह पाए जाते-जाते, किसी को नहीं पता। जिसे पता है वो है बेजु़बान जाम जो न केवल खाली है बल्कि अब टूटा हुआ भी। लोग राजेश खन्ना को याद रखेंगे। वे उन सारे गीतों को भी याद रखेंगे जिन्होंने कभी मुस्कान दी तो कभी आंसू लेकिन ख़ाली टूटा जाम भुला दिया जाएगा। इस भुलाए जाने को याद रखते हुए भी ये  फिर किसी कलाकार की जिंदगी में दाखिल होगा चुपचाप उसका साथी बनने के लिए, इसे अजीब किस्म की अमरता जो हासिल है।